आयुर्वेद के इन 7 तरीकों को अपनाएंगे खाने में, तो रहेंगे ताउम्र स्वस्थ और जवां…

शरीर को फिट रखने के लिए हेल्दी व बैलेंस डाइट लेना बहुत जरूरी है। आयुर्वेद के अनुसार अगर आप सही तरह से भोजन करते हैं, तो न सिर्फ आप लंबे समय तक बीमारियों से बचे रहेंगे बल्कि इससे बढ़ती उम्र के असर को भी काफी हद तक कम किया जा सकता है। बैलेंस डाइट का मतलब है भोजन में उचित मात्रा में शरीर के लिए सभी जरूरी पोषक तत्व मौजूद होने चाहिए। तो आयुर्वेद के अनुसार क्या है खानपान का सही तरीका, जान लें यहां..

1. भोजन को अच्छी तरह चबाएं :

खाने को अच्छी तरह चबा-चबाकर खाना चाहिए। इससे भोजन का पाचन अच्छी तरह और जल्दी होता है। साथ ही भोजन में मौजूद सही जरूरी न्यूट्रिशन भी भोजन को सही तरह से मिल जाते हैं।

2. एक साथ ज्यादा भोजन न करें :

आयुर्वेद के अनुसार हमेशा भूख से थोड़ा कम ही भोजन करना चाहिए। एक बार में बहुत ज्यादा खाना खाने से पाचन तंत्र पर अतिरिक्त दबाव पड़ता है जिसकी वजह से भोजन का पाचन सही तरह से नहीं हो पाता।

3. भोजन करते समय पानी न पिएं :

भोजन करते समय जब तक जरूरत महसूस न हो, पानी न ही पिएं तो बेहतर। इससे भोजन को पचने में ज्यादा समय लग सकता है साथ ही खाना खाते समय ज्यादा पानी पीने से पाचन संबंधी दिक्कतें भी उतपन्न हो सकती हैं। भोजन करने से लगभग 40-50 मिनट पहले और भोजन करने के लगभग आधे घंटे बाद पानी पी सकते हैं।

4. मौसम के अनुसार ही भोजन करें :

हमेशा मौसम के अनुकूल ही भोजन करना चाहिए। कई सारी परेशानियां तो इससे ही दूर रहेंगी। जैसे- गर्मियों के मौसम में हल्का और जल्दी पचने वाला भोजन करना चाहिए। साथ ही लिक्विड और ठंडी चीज़ों का ज्यादा से ज्यादा सेवन करना चाहिए। सर्दियों के मौसम में ऑयली, मीठे, खट्टे व शरीर को गर्म रखने वाले चीज़ों का सेवन करना चाहिए, इस मौसम में बासी भोजन व ठंडी चीज़ों से दूर रहना चाहिए।

5. जमीन में बैठकर भोजन करें :

आयुर्वेद के अनुसार जमीन पर बैठकर खाने से खाना अच्छी तरह पचता है जिससे भोजन के जरूरी तत्व शरीर को पूरी तरह से मिल पाते हैं। खड़े होकर भोजन नहीं करना चाहिए।

6. भोजन के बाद एक जगह बैठे न रहें :

भोजन करने के बाद थोड़ी देर टहलना अच्छा होता है, इससे भोजन को जल्दी पचने में मदद मिलती है। लेकिन बहुत भागना-दौड़ना भी नहीं है इसका भी ध्यान रखें। भोजन के बाद एक जगह बैठे रहने या लेटने से पाचन में दिक्कत होती है। और इससे मोटापे भी बढ़ता है।

7. समय से करें रात का भोजन :

रात को भोजन सोने से कम से कम दो से तीन घंटे पहले कर लेना चाहिए। इसके साथ ही रात का भोजन एकदम हल्का होना चाहिए। कम मिर्च-मसाले और ऑयल वाला भोजन रात के लिए एकदम सही है। रात को सोने से कुछ देर पहले दूध भी पिया जा सकता है।

 

About शिवांकित तिवारी "शिवा"

शौक से कवि,लेखक, विचारक, मुसाफ़िर पेशे से चिकित्सक! शून्य से आरंभ...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *