Whey Protein का सेवन क्यों करते हैं Body Builders? जानिए इसे ज्यादा खाने के क्या हैं नुकसान…

Whey Protein Side Effects: आपने अक्सर सुना होगा कि जिम जाने वाले लोग अक्सर व्हे प्रोटीन खाते हैं, आइए जानते हैं कि बॉडी बिल्डर्स के बीच ये इतना पॉपुलर क्यों है, और इसे सीमित मात्रा में क्यों खाना चाहिए…

क्या होता है Whey Protein? 

व्हे प्रोटीन एक हाई क्वालिटी प्रोटीन होता है जिसे वेजिटेरियन चीजों से तैयार किया जाता है, यानी इसे हर कोई खा सकता है. इसमें 9 तरह के एसेंशियल अमीनो एसिड पाए जाते हैं. इसे कंप्लीट प्रोटीन भी कहा जाता है जिसे हमारा पेट आसानी से डाइजेस्ट कर सकता है. बॉडी बिल्डर्स इसे खास तौर से पसंद करते हैं क्योंकि इससे उनके मसल्स मजबूत होते हैं और हेवी वर्कआउट करना आसान हो जाता है।

What is Whey Protein: हमारे शरीर के विकास और मांस्पेशियों की मजबूती के लिए डेली डाइट में प्रोटीन को शामिल करना जरूरी है, खासकर जिम जाने वाले युवा और बॉडी बिल्डर्स के लिए ये काफी अहम हो जाता है. जो लोग प्रोटीन हासिल करना चाहते हैं, वो या तो नेचुरल सोर्सेस का इस्तेमाल का कर सकते हैं, या फिर मार्केट में प्रोटीन सप्लीमेंट भी काफी मिलते हैं. ज्यादातर हेल्थ एक्सपर्ट का मानना है कि व्हे प्रोटीन खाना हमारी बॉडी के लिए काफी अच्छा माना जाता है. आइए इसके बारे में विस्तार से जानते हैं।

कितनी मात्रा में व्हे प्रोटीन का सेवन करना चाहिए?

सभी न्यूट्रिएंट्स की तरह व्हे प्रोटीन को भी डाइटीशियन की सलाह पर सीमित मात्रा में ही सेवन करना चाहिए. अगर आप बाकी प्रोटीन सोर्स खा रहे हैं तो इसकी क्वांटिटी कम होगी, वहीं अगर आप सिर्स व्हे प्रोटीन खा रहे हैं तो रोजाना 2 से 3 चम्मच काफी है. इसे आप दूध या पानी के साथ मिलाकर पी सकते हैं।

जरूरत से ज्यादा व्हे प्रोटीन खाने के नुकसान:~

1. व्हे प्रोटीन को एक लिमिटेड अमाउंट में ही खाना चाहिए वरना डाइजेशन से जुड़ी परेशानियां पैदा हो सकती है.

2. व्हे प्रोटीन के अधिक सेवन से आपके पेट में सूजन, ऐंठन, डायरिया या पेट फूडने की शिकायतें हो सकती हैं।

3. जिन लोगों को किडनी या लिवर से जुड़ी कोई परेशानी है उनके लिए भी व्हे प्रोटीन खाना सही नहीं है।

4. महिलाओं को खास ख्याल रखना चाहिए क्योंकि ज्यादा व्हे प्रोटीन खाने से रिप्रोडक्शन से जुड़ी समस्या हो सकती है।

5. जिन लोगों को मिल्क या डेयरी प्रोडक्ट्स से एलर्जी है उन्हें व्हे प्रोटीन से परहेज करना चाहिए।

About शिवांकित तिवारी "शिवा"

शौक से कवि,लेखक, विचारक, मुसाफ़िर पेशे से चिकित्सक! शून्य से आरंभ...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *